क्या हों मुस्लिम समाज की प्राथमिकताएं ?

 

क्या हों मुस्लिम समाज की प्राथमिकताएं ?

आज के हालात में क़ौम और मुल्क की फलाह ओ बहबूद के लिए दिल सोचने पर मजबूर और बैचेन है कि:
__________________

जिस क़ौम के लोग इमाम और मोअज़्ज़िन का ख़ून चूस रहे हों और मस्जिदें संगे मरमर से सजाई जा रही हों,

तो क्या वो क़ौम तरक़्क़ी कर सकती है???
—————————–

जिस क़ौम के ग़रीब बीमारों के पास इलाज का कोई बन्दोबस्त ना हो——और क़ौम के डाक्टर की फ़ीस ग़ैर क़ौम के डॉक्टरों से ज़्यादा हो,

क्या वो क़ौम तरक़्क़ी कर सकती है????
__________________

जिस क़ौम में पड़ौसी की बेटी कुँवारी बैठी हो, और बेवाओं और यतीमों के लिए कोई इंतिज़ाम ना हो,

और क़ौम के दौलत मन्द लोग उमराह पर उमराह कर रहे हों,

क्या वो क़ौम तरक़्क़ी कर सकती है ???
___________________

जिस क़ौम के होनहार नौजवान बे रोज़गारी के शिकार हों और क़ौम के दौलतमंद लोग कारख़ाने या रोज़गार के ज़रिये पैदा करने के बजाए जलसे और जुलूस में लाखों रुपए ख़र्च कर देते हों,

क्या वो क़ौम तरक़्क़ी कर सकती है???
____________________

जिस क़ौम के फुक़रा और ग़रीबों के पास सिर छुपाने की जगह ना हों——- क़ौम के दौलतमंद अपने महलों को सँवारने में लगे हों,

“क्या वो क़ौम तरक़्क़ी कर सकती है???
____________________

सवाल बहुत हैं, फिलहाल इन चन्द सवालों के बारे में ही संजीदगी से सोचिए और कोई हल निकालिए ताकि मुल्क और क़ौम का कुछ भला हो साथ ही आख़िरत में भी अल्लाह और उसके रसूल के सामने सुरख़ुरू होया जा सके।

वस्सलाम।

सैयद शहनशाह हैदर आब्दी
समाजवादी मुफक्किर – झांसी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *