झांसी मे करिये सुखद एहसास, मोर नाच रहा, नाव चल रही

झांसीः कहते है कि नगर की काया तभी पलटती है जब सरकार मेहरबान हो। इन दिनो  सरकारी अमले ने नगर को जैसे खूबसूरत बनाने मे कोई कसर नहीं छोड़ रखी है। स्वच्छता सर्वेक्षण क्या चल रहा, बुन्देली इस बात का एहसास करने लगे है कि वो वाकई स्मार्ट सिटी के वाशिंदे होने लगे हैं?

नगर निगम इन दिनो  स्वच्छता सर्वेक्षण अभियान के तहत गली मुहल्ले से लेकर बाजार और कालोनियो  को स्वच्छ बनाये रखने के लिये पूरा जोर लगा रहा है। सफाई व्यवस्था का आलम यह है कि नगर की सड़को  पर दिन मे तीन बार झाडू लगायी जा रही है।

नगर मे प्रवेश करने वालो  को और यहां रहने वालो  को सड़क पर चलते समय स्वच्छता भरे माहौल का एहसास दिलाने मे कसर नहीं छोड़ी जा रही। निगम की ओर से मुख्य मार्ग की सड़क पर की जा रही पेटिंग देखने लायक है।

सुन्दर कलाकृति से बनी पेटिंग मन को मोह रही है। हरियाली और जंगली जानवरो  से प्रेम करने का संदेश देती तस्वीरे बता रही है कि स्वच्छता सभी के लिये जरूरी है।

शौचालय की दीवार पर बनी नाव वाली पेटिंग लोगो  को काफी पसंद आ रही है। महापौर रामतीर्थ सिंघल ने पदभार संभालने के बाद पहला संकेत दिया था कि वो सफाई अभियान को सफल बनाकर रहेगे।

इस अभियान मे जनसहभागिता की कमी जरूर नजर आ रही है, लेकिन निगम का अमला स्वच्छता सर्वेक्षण मे झांसी को नंबर-1 बनाने के लिये पैसा पानी की तरह बहा रहा है। यहां सवाल भी उठ रहा है कि क्या यह केवल अभियान सफल बनाने तक सीमित रहेगा? सफाई, होर्डिग्स, पेटिंग के काम क्या नगर के अव्वल आने के बाद ऐसे की चलते रहेगे? या फिर काम बनने के बाद सरकारी मशीनरी के सोने की आदत देखने को मिलेगी?

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *